राजपुर. पति द्वारा संबंध नहीं बनाने व लगातार चरित्र पर शंका करने से नाराज पत्नी ने 25 दिन पूर्व सोते समय मिट्टीतेल छिडक़ कर उसे जिंदा जला (Burnt Alive) दिया। गंभीर हालत में उसे पड़ोसियों द्वारा अंबिकापुर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां इलाज के दौरान दूसरे दिन उसकी मौत हो गई।

इस मामले में जांच पश्चात पुलिस ने आरोपी पत्नी को गिरफ्तार कर बुधवार को जेल भेज दिया है। पिता की मौत के बाद मां के जेल चले जाने से उनके दोनों बच्चे अनाथ हो गए।


बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के राजपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम बदौली, लंग्हाडांड निवासी धर्मपाल गोंड़ 37 वर्ष अपनी पत्नी बिलासो बाई 30 वर्ष तथा दो बच्चों के साथ रहता था। 16 मई की रात करीब 12 बजे धर्मपाल मजदूरी कर घर लौटा। इस दौरान पत्नी बच्चों के साथ सो रही थी।

काफी देर से दरवाजा खोलने पर व नाराज हो गया और पत्नी की पिटाई कर दी। इसके बाद वह पत्नी व बच्चों के साथ न सोकर आंगन में जमीन पर सो गया। साथ नहीं सोने से पत्नी नाराज थी। वह रातभर नहीं सोई और अलसुबह 4.30 बजे पति की हत्या की नियत से किचन से मिट्टीतेल लाकर सो रहे पति पर छिडक़ दिया।

इसके बाद दोनों बच्चों को दूसरे कमरे में ले गई और फिर घर में आकर माचिस से आग लगाकर (Burnt Alive) बाहर निकल गई। पति को जिंदा जलता छोड़ वह दरवाजा बंद कर पड़ोसी के घर चली गई। पड़ोस की महिला ने पूछा तो उसने बताया कि पति विवाद कर रहा था इस कारण वह आ गई है।


शोर मचाता जले हालत में बाहर निकला पति
कुछ देर बाद ही पति जले हालत में शोर मचाते हुए बाहर निकला तो पड़ोस के कुछ लोग पहुंचे। वह पानी पिलाने की मांग कर रहा था। पड़ोसियों ने उसे पानी पिलाया। उसके शरीर का अधिकांश हिस्सा जल चुका था। गंभीर हालत में उसे अंबिकापुर के मिशन अस्पताल में भर्ती कराया गया, यहां 18 मई को उसकी मौत (Burnt Alive) हो गई।


पुलिस ने पत्नी को भेजा जेल
धर्मपाल की मौत की सूचना मिलते ही पुलिस ने पड़ोसियों के बयान के आधार पर मामले की जांच की। पुलिस ने उसकी पत्नी बिलासो को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने जलाकर मार डालने की बात स्वीकार की। इस पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर धारा 302, 201 के तहत बुधवार को जेल भेज दिया।


पति नहीं बनाता था संबंध
पुलिस की पूछताछ में आरोपी पत्नी ने बताया कि पति और उसके बीच पति-पत्नी जैसा रिश्ता काफी दिनों से नहीं रह गया था। पति उससे संबंध नहीं बनाता (Husband Not Made Relation) था तथा उसके चरित्र पर भी शंका करता था। हर दिन इसी बात को लेकर दोनों के बीच हो रहे विवाद से तंग आकर उसने ये कदम उठाया।


कार्रवाई में ये रहे शामिल
कार्रवाई एसपी टीआर कोशिमा, एएसपी धृतलहरे, राजपुर थाना प्रभारी फर्दीनंद कुजूर के मार्गदर्शन में एसआई अब्दुल मुनाफ, एएसआई कल्पना निकुंज, महिला प्रधान आरक्षक वीणा रानी, आरक्षक नरेंद्र कश्यप, प्रमोद यादव, लखेश्वर पैंकरा, रामकुमार पैंकरा व महिला आरक्षक रेशमा कुजूर ने की।


Leave a Reply