देश की दिग्गज आईटी कंपनी इंफोसिस की चेयरपर्सन सुधा मूर्ति रविवार को सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड हो रही है। सोशल मीडिया पर उनकी एक फोटो वायरल हो रही है, जिसमें वो ढेर सारी सब्जियों के बीच में बैठी हुई हैं।

इस फोटो के साथ ही लिखा जा रहा है कि अरबों की मालकिन होने के बावजूद इतना सादा जीवन बिताना कोई आसान काम नहीं है लेकिन सुधा का व्यक्तित्व ही कुछ ऐसा है। साथ ही ये भी लिखा जा रहा है कि वे साल में एक बार ये काम जरूर करती है।

आपको बता दें कि जो फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है वो चार साल पुरानी है। गूगल रिवर्स इमेज सर्च पर  पता चला कि ये फोटो 2016 की है। हालांकि, फोटो पुरानी है लेकिन सुधा मूर्ति हर साल परोपकारी कार्य के तहत अपने जयनगर, बेंगलुरु के पास स्थित राघवेंद्र स्वामी मंदिर में आयोजित होने वाले राघवेंद्र अराधनाउत्सव में तीन दिनों के लिए कार सेवा करती है।

सुधा सुबह चार बजे उठकर एक सहयोगी के साथ मंदिर के भोजनालय में जाती हैं। इसके बाद वो भोजनालय और बगल में स्थित कमरों को साफ करती हैं।  इतना ही नहीं भोजनालय के बर्तनों को साफ करती हैं, फिर शेल्फ की सफाई, सब्जियों का स्टॉक लेती हैं, सब्जियां कटवाती हैं।

वे अपने सहयोगी की मदद से सब्जियों और चावल की बड़ी बोरियों को मंदिर के स्टोर रूम में पहुंचाने में मदद करती हैं।

2013 में दिए इंटरव्यू में सुधा मूर्ति ने कहा था कि पैसा देना सरल है, लेकिन शारीरिक सेवा आसान नहीं हैं। मंदिर के प्रबंधकों के अनुसार सुधा हर साल तीन दिन के लिए स्टोर मैनेजर की भूमिका में रहती हैं। सामने आई फोटो की सच्चाई यह है कि सुधा मूर्ति सब्जियां नहीं बेच रही बल्कि मठ में तीन दिनों के लिए स्टोर में आने वाली सब्जियों के स्टॉक को चेक कर रही हैं और इसके लिए वो जमीन पर सब्जियों के बीच में जाकर के बैठ जाती हैं। 


Leave a Reply